भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कइसन उ समय रहे / हम्मर लेहू तोहर देह / भावना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कइसन उ समय रहे जे उ हमरा करीब रहे।
माथ के सेनूर रहे आउर हम्मर नसीब रहे॥

मिल गेल दउलत खूबे तइयो पिआसल मन रहल।
पेआर के अभाव में ई दिल बड़ा गरीब रहे॥

चहला से सबके न मिल पबइअऽ खुशी के सनेस।
भरल रहे जेक्कर झोली ऊ सच्चे खुसनसीब रहे॥

आवारा बन घुमइअऽ आइ इहां त काल उहां।
पागल जेकरा सब कहे ऊ पेआर के मरीज रहे॥