भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कजरी / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ससुराल से पहली बार
आई कजरी गुम सुम सी है
कम हंसती है
अकेले कोने में बैठ कर
काढ़ती है तकिया के खोल
पर हरा सुग्गा

सहमी सी रहती है
आने जाने वालों से नही मिलती

देर तक बेलती रहती है रोटी
इतनी की फट जाये

माई बाप अगली विदाई की
तैयारी में लगे हैं
छोटी बहन जीजा को लेकर
जरा छेड़ती है

आस पड़ोस वालों में किसी "नई खबर"
की सुगबुगाहट

ससुराल से वापस आई लड़कियां
बस लाती है तथाकथित नई खबरें
ये मान लेते हैं सब

कोई जानना नही चाहता... कजरी छुपा लेती है
वो दाग जो दुखता है हर घडी

बाप जूटा रहा है विदाई का सामान

कजरी के मेजपोस पर हरा सुग्गा
एक काले पिंजरे में बंद है

सुई चुभती है
कजरी की उँगलियों से निकलने वाला
रंग सुग्गा के चोच जितना गहरा है