भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कजरेली मोरे मैना / छत्तीसगढ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कइसे दिखत हे आज उदास रे, कजरेली मोरे मैना
कइसे दिखत हे आज उदास रे, कजरेली मोरे मैना
पतरेंगी मोरे मैना, सवरेंगी ना रे सुवा ना
कइसे दिखत हे आज उदास रे, कजरेली मोरे मैना
कइसे दिखत हे आज उदास रे, कजरेली मोरे मैना

पुन्नी के चन्दा ला लेगे बदरिया
कहाँ बुलाये मोर बाँके नजरिया
पुन्नी के चन्दा ला लेगे बदरिया
कहाँ बुलाये मोर बाँके नजरिया

का तो हाबय तीजाही उपास रे, कजरेली मोरे मैना
का तो हाबय तीजाही उपास रे, कजरेली मोरे मैना

चम्पा चमेली मोर चुरमुर चुरमुर
का दुःख मा बइठे हे झुरमुर झुरमुर
चम्पा चमेली मोर चुरमुर चुरमुर
का दुःख मा बइठे हे झुरमुर झुरमुर

मन ले कइसे पराये उलास रे, कजरेली मोरे मैना
मन ले कइसे पराये उलास रे, कजरेली मोरे मैना

कंचन काया ले माया रिसागे
चहकत चिरईया मोर कइसे थिरागे
कंचन काया ले माया रिसागे
चहकत चिरईया मोर कइसे थिरागे

जीव ले आस हे काबर हतास रे, कजरेली मोरे मैना
जीव ले आस हे काबर हतास रे, कजरेली मोरे मैना

पतरेंगी मोरे मैना, सवरेंगी ना रे सुवा ना
कइसे दिखत हे आज उदास रे, कजरेली मोरे मैना
कइसे दिखत हे आज उदास रे, कजरेली मोरे मैना
सवरेंगी मोरे मैना, पतरेंगी मोरे मैना
सवरेंगी ना रे सुवा ना