भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कटी पतंग / मृदुल कीर्ति

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक पतंग नीले आकाश में उड़ती हुई
मेरे कमरे के ठीक सामने
खिड़की से दिखता एक पेड़
अचानक एक पतंग कट कर
अटक गयी।
नीचे कितने ही लूटने वाले आ गए

क्योंकि
पतंग की किस्मत है
कभी कट जाना
कभी लुट जाना
 कभी उलझ जाना
कभी नुच जाना
कभी बच जाना
कभी छिन जाना
कभी सूखी टहनियों
पर लटक जाना।
टूट कर गिरी तो झपट कर
तार-तार कर देना।
हर हाल में लालची निगाहें
मेरा पीछा करती है।

कहीं मैं नारी तो नहीं?