भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कठपुतरी / पढ़ीस

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ठुनुकि-ठुनुकि ठिठुकी कठपुतरी।
रंगे काठ के जामा भीतर
अनफुरू[1] पिंजरा पंछी ब्वाला,
नाचि-नाचि अँगुरिन पर थकि-थकि
ठाढ़ि ठगी असि जसि कठपुतरी।
छिनु बोली, छिनु रोयी गायी,
धायी धक्कन उछरि-पछरि फिरि;
उयि ठलुआ की ठलुहायिन ते
परी ‘चकल्लस’ मा कठपुतरी।

शब्दार्थ
  1. सचमुच