भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कठपुतली / सुधा ओम ढींगरा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कठपुतली हो उसके हाथों की
फिर नाज़ -नख़रा कैसा ?
नाचो जैसे नाचाता है
वह आका़ है तुम्हारा ----

धागें हैं उसके हाथों में
कभी कत्थक, कभी कथकली
कभी ओड़िसी, कभी नाट्यम
करवाएँ हैं तुम से ---

कराएँ हैं नौं रस भी अभिनीत
जीवन के नाट्य मंच पर
हँसो या रोओं
विरोध करो या हो विनीत
नाचना तो होगा ही
धागे वो जो थामें हैं-----