भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कठै है...? / सिया चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अखबार सागै करल्यां हां
दो बात देस-दिसावर री
बारणै तांई जातां-जातां
खिंडाय आवूं मुळक
जोरांमरदी।
 
पछै फिरती फिरूं घर मांय
कांई ठाह कांई सोधूं
उमणी-दुमणी सी
लागै कीं गमग्यो दीसै।
 
गिणूं एकोएक चीज नैं
सगळी आपो आपरी जाग्यां
पछै वो कांई है, जिको
लेयग्यो म्हारा सगळा भाव?
 
अरे! कठै है वा आस
जिण नैं सागै लेय’र आयी ही म्हैं
अर कठै है वो भरोसो
जिण री डोरी सूं बंधगी ही म्हैं
 
कठै है वो अमर प्रेम
जिण रै गमण रो तो
सुपना में ई सोच्यो नीं हो
लागै है-
कठैई ऊंडो जाय’र लुकग्यो दीसै....।