भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कड़तन लागौ मूड़ दिरौंदा / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कड़तन लागौ मूड़ दिरौंदा,
कड़ीं न सिर खों ओंदा।
कारीगर ने बुरऔ बनाऔं।
धरौ न ऊँचों गोंदा।
लच गई, लफ गई, दूनर हो गई,
नेंनूँ कैंसो लोंदा
ईसुर उनें उठा नई पाए,
हतो उतै सकरोंदा।