भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कण्ठ सभी भर्राए / श्याम निर्मम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आँखों में सपनों की भरी नदी सूख गई,
और हमें मरुथल के संग-संग बहना है।

गढ़ते वक्तव्य रहे
बस्ती के सीने पर,
खिसकाकर सीढ़ियाँ
चढ़ते ख़ुद ज़ीने पर ।

पान कर हलाहल का कण्ठ सभी भर्राए,
और हमें पीड़ा को गा-गाकर कहना है ।

पर्वत-सा दर्द भले
सुना रही बाँसुरी,
रोम-रोम आग हुई
प्राणों की माधुरी ।

जीवन का फलसफ़ा समझा नहीं पाए हैं,
और हमें दुःख-सुख को साथ-साथ सहना है ।

इस जलते अम्बर से
टूटेंगी बिजलियाँ,
प्यास को बुझाने में
तड़पेंगी मछलियाँ ।

समय की तरंगों से बर्फ़ नहीं हो पाए,
और हमें अग्नि के मुहानों में दहना है ।