भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कते जल बहे छै बहिन कमलेसरी / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कते जल बहे छै बहिन कमलेसरी,
मैया हे कते जल बहे छै हे ।
ठेहुना जल बहे छै मैया कमलेसरी हे,
अगम जल मैया बहे कोसीधार
से अगम जल ।
कहमा नहैले कोसीमाय
कहमा लट हे झारले
कहमा कैले सोलहो सिंगार ।
बाराहछेत्रा से पलै कोसीमाय,
बाटिहि नहैले,
गहबर कैले सोलहो सिंगार ।
जीरवा सन के दँतवा से कोसीमाय,
सिहारी फोड़ल माथ ।
बानन छेदी कोसीमाय खाट देवो घोराय,
गे सोना से,
डँड़वा देवो छराय, गे सोना से ।
अगिया लगेबों सेवक,
रानू सरदार छी हमर लोग ।