भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कथावाले सस्ते फिरत धर पोथी बगल में / गुमानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कथावाले सस्ते फिरत धर पोथी बगल में ।
लई थैली गोली घर-घर हक़ीमी सब करें ।।
रंगीला-सा पत्र कर धरत जोशी सब बने ।
अजब देखा काशीपुर शहर सारे जगत में ।।

जहाँ पूरी गरमा-गरम, तरकारी चटपटी ।
दही-बूरा दोने भर-भर भले ब्राहमण छकें ।।
छह न्योते-वारे सुनकर अत्ठारे बढ गए ।
अजब देखा काशीपुर शहर सारे जगत में ।।

जहाँ धेला नदी दिग़ रहत मेला दिन छिपे ।
जहाँ पट्टी पातुर झलकत परी-सी महल में ।।
तले ठोकर खाते-फिरत सब गलिन में
अजब देखा काशीपुर शहर सारे जगत में ।।

कड़ी जसपुर पट्टी फिरकर कदी तो चिलकिया ।
कदी घर में सोते भर नयन भोरे उठ चले ।।
सभी टाट लादें बनज रुजगारी सब बनें ।
अजब देखा काशीपुर शहर सारे जगत में ।।

यहाँ ढेला नद्दी उत बहत गंगा निकट में ।
यहाँ भोला मोटेश्वर रहत विश्वेश्वर वहाँ ।।
यहाँ संडे-डंडे कर-धर फिरें सांड उत ही ।
फ़रक क्या है काशीपुर शहर काशी नगर में ।।