भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कन्हैया कन्हैया तुझे आना पड़ेगा / भजन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कन्हैया कन्हैया तुझे आना पड़ेगा
आना पड़ेगा
वचन गीता वाला निभाना पड़ेगा

गोकुल में आया मथुरा में आ
छवि प्यारी प्यारी कहीं तो दिखा
अरे सांवरे देख आ के ज़रा
सूनी सूनी पड़ी है तेरी द्वारिका

जमुना के पानी में हलचल नहीं
मधुबन में पहला सा जलथल नहीं
वही कुंज गलियाँ वही गोपिआँ
छनकती मगर कोई झान्झर नहीं