भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कन्हैया तोरी चितवन / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कन्हैया तोरी चितवन लागे प्यारी।

सावन गरजे भादों बरसे
बिजुरी चमके न्यारी (कन्हैया)

मोर जो नाचे पपीहा बोले
कोयल कूके प्यारी (कन्हैया)

नन्हीं-नन्हीं बुंदिया मेहा बरसे
छाई घटा अंधियारी (कन्हैया)

सब सखियां मिल गाना गाए
नाचे दे दे तारी (कन्हैया)