भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कब कहाँ क्या मिरे दिलदार उठा लाएँगे / अता तुराब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कब कहाँ क्या मिरे दिलदार उठा लाएँगे
वस्ल में भी दिल-ए-बे-ज़ार उठा लाएँगे

चाहिए क्या तुम्हें तोहफ़े में बता दो वर्ना
हम तो बाज़ार के बाज़ार उठा लाएँगे

यूँ मोहब्बत से न हम ख़ाना-ब-दोशों को बुला
इतने सादा हैं कि घर-बार उठा लाएँगे

एक मिसरे से ज़ियादा तो नहीं बार-ए-वजूद
तुम पुकारोगे तो हर बार उठा लाएँगे

गर किसी जश्न-ए-मसर्रत में चले भी जाएँ
चुन के आँसू तिरे ग़म-ख़्वार उठा लाएँगे

कौन सा फूल सजेगा तिरे जूड़े में भला
इस शश-ओ-पंज में गुलज़ार उठा लाएँगे