भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कब खिलेंगे फूल / सौरभ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चली गई ठँडी हवा
चले गए कृष्ण
बरस गए बादल
चले गए नानक
कौंध गई बिजली
चले गए महावीर
बह गया झरना
चले गए बुद्ध
फिर कब चमकेगी बिजली
न जाने कब चलेगी ठंडी हवा
फिर कब खिलेंगे फूल
मैं बैठा कर रहा हूँ इंतज़ार।