भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कब खुलेगा कि फ़लक पार से आगे क्या है / ताबिश कमाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कब खुलेगा कि फ़लक पार से आगे क्या है
किस को मालूम कि दीवार से आगे क्या है

एक तुर्रा सा तो मैं देख रहा हूँ लेकिन
कोई बतलाए कि दस्तार से आगे क्या है

ज़ुल्म ये है कि यहाँ बिकता है यूसुफ़ बे-दाम
और नहीं जानता बाज़ार से आगे क्या है

सर में सौदा है कि बार तो देखूँ जा कर
सर-ए-मैदान सजी दार से आगे क्या है

जिस ने इंसाँ से मोहब्बत ही नहीं की ‘ताबिश’
उस को क्या इल्म कि पिंदार से आगे क्या है