भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कभी ज़िन्दग़ी को हाथ से फिसलते देखा है? / जया झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी ज़िन्दग़ी को हाथ से फिसलते देखा है?


कोई वज़ह नहीं कि जी न सकें,

हाथ में रखा जाम पी न सकें।

मजबूत हाथों के होते भी,

फिसलन की वजह से

कभी प्याले को हाथ से गिरते देखा है?


कभी ज़िन्दग़ी को हाथ से फिसलते देखा है?