भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कभी यूँ भी तो हो / सौरभ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी यूँ भी तो हो
मैं घूमने निकलूँ
और सड़क में कोई न हो
फूल ही फूल खिले हों
और काँटा एक न हो
कभी यूँ भी तो हो
सब हों सँतुष्ट
एक भी स्ट्राइक न हो
कभी यूँ भी तो हो
सब अपने काम में मग्न रहें
सरकारी अफसर टाइम पर पहुँचे ऑफिस
कोई दंगा न हो
कभी यूँ भी तो हो
धूप निकली हो
और गर्मी न हो
कभी यूँ भी तो हो
नेता करें देश की सेवा
अलग से कोई समाजसेवक न हो
कभी यूँ भी तो हो
नेता करें देश की सेवा
भगवान पुकारता फिर रहा हो
और कोई भक्त न हो
सभी लगा रहे हो आवाजें
कोई सुनने वाला न हो
गरज कर चले जाएँ बादल
और बरसात न हो
कभी यूँ भी तो हो
भगवान बाँटता फिरे सौगातें
और लेने वाला कोई न हो।