भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कमरे को नई आबो-हवा क्यों नहीं देता / ज्ञान प्रकाश विवेक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कमरे को नई आबो-हवा क्यों नहीं देते
इन बूढ़े कलेंडरों को हटा क्यों नहीं देते

इक शख़्स गुलेलों को यहाँ बेच रहा है
ये राज़ परिन्दों को बता क्यों नहीं देते

अलमारी में रख आओ गए वक़्त की एलबम
जो बीत गया उसको भुला क्यों नहीं देते

ऐ तेज़ हवा, तू भला समझेगी कहाँ तक
हम तुझको चराग़ों का पता क्यों नहीं देते

पोशाक मेरी आपसे शफ़्फ़ाक है ज़्यादा
ये मेरी ख़ता है तो सज़ा क्यों नहीं देते

हम ख़ानाबदोशों के नहीं होते ठिकाने
मत पूछ कि हम घर का पता क्यों नहीं देते.