भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कमरे में रहने वाला चाँद / योशियुकी रिए

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: योशियुकी रिए  » कमरे में रहने वाला चाँद

चाँद
मसखरे की तरफ़ देखता है

मसखरा
हवा में कलाबाज़ियाँ लगाता है
चाँद बेहद डर जाता है

ऊपर से
चाँद
देखता है मसखरे की तरफ़

मेरे कमरे में आकर रहने लगा है
बिल्ली-सा चाँद
सुबह-सवेरे अचानक ग़ायब हो जाता है
मसखरे को अपने साथ लेकर

मूल जापानी से अनुवाद : रोली जैन