भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कमल फूल अस कैना पाई / शेख किफ़ायत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कमल फूल अस कैना पाई । रूपभान कर बात सुनाई ।।
मुनी के रूप भई रंग राती । उपजा बिरह बेथा सब गाती ।।
रूपा तोहार सुना जब लोना । अस भई कोई डारे जस टोना ।।
केहि विधि पार गेआ वही सोई । जौ लगि ई अमिल बधे नहि कोई ।।
आदर मान बहुत मोर कीन्हा । ओ लोचन पंडित संग कीन्हा ।।
जब लोचन भौ साथ हमारा । तब देखल हम दरस तोहारा ।।
अब लोचन जाने और तुह राजा । अब है नहीं मोर कुछ काजा ।।