भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कमाल की औरतें १२ / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चार चूडिय़ों को सेफ्टीपिन से बांधे
तुम उनका खनकना बंद कर सकती थी
पर बिंधना नहीं
कलाई पर नीले स्याह गोदना से लिखा
कु.पा.
तुम्हारी आंखों में काले धŽबे से उभरता
हमने तुम्हारी बिछिया को गोल-गोल ƒघुमाते हुए
तुम्हारी गांठें देखी थीं
तुमने उन्हें कभी नहीं खोला
बुआ! रात आसमान से कुछ ना बरसता
तुम उस नीले परदे को भेद
अतीत में सेंध लगाती थी ना
कौन सी कुंडली बांचती
फेरों का गीत गाती
हमें अपने पेट पर लेटा
गले से भींच
उस अभागे पति के साथ को बिसूरती
जो तुम्हें ब्याह लाया
और छोड़ गया अपनी पियरी मौरी सिनोहरा
बरसों बरस तुम्हारा भगोड़ा पति
तुम्हें उलाहनों में बांध गया
सास ससुर कहते ना थके
'करिया मोट लरिकी से हमार लरिका खुश ना रहे'
लेकिन तुम बुआ उनकी सेवा में
बनी रही...ƒघर की प्रहरी भर
भरे अनाज प€की छत बीघा जमीन की स्वामिनी
तुम्हारे माथे के ƒघूंघट में
आग उगलती उस लाल टिकुली का
सामना कौन करता भला
तुमने समय की तराजू को खाली छोड़ा
तुम्हें पता था जमीन माटी आसमान फूल बगिया से
भारी था तुम्हारी कलाई का गोदना
चमकती मछली रेत की नदी में ƒघुल-ƒघुल मरी
गांव में ज़िन्दा रही ये कहानी...।