भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कमाल की औरतें २७ / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब गौरैया निशाने पर है
अचूक है तुम्हारा निशाना

तुम एक-एक कर मारना उसे
आखिरी गौरैया को मार कर
उसका पंख रखना निशानी

जब अकाल पड़ेगा
जब नदी सूख जाएगी
जब फसल काले पड़ जायेंगे
जब भर जाएगी तुम्हारे आंखों में रेत

ज़िन्दगी ख़त्म होने के पहले
अपनी काली माटी में रोप देना वो रखा हुआ पंख
उसी में भरी थी उड़ान
उसके ƒघोंसले का पता
उसके बच्चे की भूख

वो धरती को मना लेगी
तुम्हें एक और बार जनेगी
और तुम बार-बार साधना निशाना
शिकारी हो तुम।