भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कमाल की औरतें २८ / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खिड़कियों के पर्दे बंद करोगे
देह को परत दर परत खोलोगे

अपने हक की भाषा बोलोगे
मेरी ƒघुटी सांसों की खाली प्रार्थना
जमीन पर चप्पल सी औंधी रहेगी
तुम मसलते से निकल जाओगे

उभरे जख्मों से टीसेगा दर्द
मैं पट्टियां बांध रखूंगी

तुम थक कर आओगे
तुम परेशान हो जाओगे
खाली बोतलों में सुकून की ƒघूँट ना मिली तो
मैं पट्टियां खोल दूंगी
तुम जख्मों पर नमक से लिपट जाओगे

खिड़कियों के पर्दों पर आह सी सलवटें और मैं...।