भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कमाल की औरतें ३१ / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हवा तेज़ भाग रही है
मन के अंधेरे रास्तों पर
एक उजली छत पर
एक अकेली लड़की
गा रही है
गोल-गोल ƒघूमती हुई
एक गीत

आंधी पानी दोष बुढिय़ा भरोस...

चांद पृथ्वी सब ƒघूम रहे हैं गोल-गोल

लड़की आज भी ƒघूम रही है
अपनी धुरी पर अकेली
जि़‹दगी ƒघर ब‘चे जदोजहद
दुनिया देख रही है

अब मन की अंधेरी सड़क पर
तेज आंधी है...डरावनी आवाज़ें
आहटों से तेज सांसें हैं।