भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कमाल की औरतें ३४ / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर चिड़िय़ां लड़ाकू नहीं होती
और सारी चिड़िय़ां सुन्दर भी नहीं
सभी उड़ भी नहीं पाती आसमान तक

सबके चोंच गुलाबी भी नहीं होते
सबके गले से सुरीली आवाज़ भी नहीं निकालती

सभी के ƒघोंसलों में परिवार की ऊर्जा भी नहीं भरी होती
कुछ चिडिय़ां अकेले भी नापती हैं आकाश
पर चिड़िय़ां चाहे जैसी भी हों
उनके पंख सुनहरे होते हैं
और हम हर सुनहरी चीज़ का शिकार करते हैं।