भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कमाल की औरतें ३५ / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देह की माटी पर
उगेंगे हरे पौधे

हवाओं की सीटियों से
कंपकपाएंगे नए पत्ते

थरथराती एक शाम
उकड़ू बैठेगी छांव तले
तुम धूप बन कर आना

मैं पेड़ की सबसे ऊंची फुनगी से गिरूंगी
बूंद बनकर
तुम्हारी हथेलियों में

तुम फिर माटी कर देना मुझे...।