भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कमाल की औरतें ३७ / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बगल के कमरे से
ऊंची आवाज़ों का आना

सामान का बिखर जाना
छोड़ दूंगा चली जाऊंगी का
बार-बार दुहराया जाना

कुछ तमाचे सिसकियां
कुछ ठहरा सा सन्नाटा

देर रात पास वाले कमरे में
कांपते रहे ब‘चे
पांच साल की गुडिय़ा
जरा से बड़े भाई की गोद में
चिपक कर सो गई

इस तरह एक और सुबह हो गई।