भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कमाल की औरतें ३८ / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चमचमाती थाली में
चेहरा देखा
और बुदबुदाई

तुम खामोश हो
हम कर दिए जाते हैं

थाली में उभरी एक जोड़ी
आंखें धुंधला गईं

मैंने सूखे कपड़े से गीली थालियों को
सुखा कर सजा दिया।