भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कमाल की औरतें ४ / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब नदी के पास नहीं बचेगा पानी
चूल्हे में बुझी होगी बीते दिनों की आग
हवा के गर्भ में अंतिम सांसें लेगी पुरुआ पछुआ
नानी के होंठ तक आकर कहानी
रास्ता भूल जाएगी

पिता के कंधे पर बैठ
मेले का आकाश नहीं छू पाएंगीं नन्ही हथेलियां
मां की पुकार पर पत्ते झरने लग जायेंगे
बेटियों की तस्वीर से लापता हो चुकी होगी खिलखिलाहट
पाजेब में ƒघूँघरू खो देना चाहेंगे
अपने छमकने का अस्तित्व
आंधियों में शैतान बच्चों की टोली
नहीं बटोरेगी टिकोरा अपनी बंद आंखों से

जब कुछ नहीं बचना चाहेगा
जब सब ख़त्म होने को होगा
समय
धरती के सीने पर कर रहा होगा
अपने जाते कदमों से हस्ताक्षर

रात की डिबिया में बंद
इ‹तजार में पगी उन आंखों का यकीन
सम‹दर को धरती की कहानी सुनाएगा
सम‹दर मीठा हो जायेगा
हवा लौट आएगी
चूल्हा जलने लगेगा
एक लड़की बनाएगी एक चिडिय़ा की तस्वीर
आसमान नीला रंग जायेगा
एक प्रेम
ठूंठ पेड़ों पर घोंसला बनाएगा
शाखें गुलजार हो जायेंगी

नदी पर कसी जा रही है पालों वाली नाव
किनारे गीत गा रहे हैं
मिट्टी पानी में मिल आकार ले रही है
हम Œप्यार कर रहे हैं
हम धरती, पेड़, नदी, आकाश, बादल हैं
हम बगिया पछुआ पुरुआ बयार हैं
नानी की कहानी के मीठे पात्र हैं हम
कहानी के अंत में
'सब सुख से राजपाट करने लगे' पर यकीन करते हैं हम
Œप्यार करते हैं

हममें बची हुई धरती
सांस ले रही है।