भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

करती है मिरे दिल में तिरी जल्वागरी रंग / सौदा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


करती है मिरे दिल में तिरी जल्वागरी रंग
इस शीशे में हर आन दिखाती है परी रंग

किस रंग में देखा न तिरे रंग का जल्वा
सब रंग में तू, पे[1] तिरा सबसे बरी[2]रंग

ऐ शीशागराँ, दिल कोई टूटा हो, बना दे
पैदा करे फिर और ही कुछ शीशागरी रंग

है ख़ाकबसर आज, ख़ुदा जाने चमन का
देख आयी है क्या जाके नसीमे-सहरी[3] रंग

किस गुल में ये जल्वा है जो अब कुंजे-क़फ़स[4]में
दिखलाती है मेरी मुझे बे-बालो-परी[5]रंग

कर जाम-ए-उरयानी[6] को ख़ाकस्तरी[7] 'सौदा'
है अज़्मे-सफ़र[8] याँ[9] से तो है ये सफ़री रंग

शब्दार्थ
  1. लेकिन
  2. श्रेष्ठ
  3. सुबह की ठंडी हवा
  4. पिंजरे के कोने में
  5. पंखहीनता
  6. नग्नता रूपी वस्त्र
  7. मिट्टी के रंग का
  8. यात्रा का संकल्प
  9. यहाँ