भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

करते हैं पर काम नहीं करते हैं / रामश्याम 'हसीन'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

करते हैं पर काम नहीं होते हैं सब
करके भी बदनाम नहीं होते हैं सब

दशरथ भी सब बाप नहीं बन पाते हैं
बेटे भी अब राम नहीं होते हैं सब

पाँव बढ़ाना थोड़ा सोच-समझकर ही
रस्ते भी अब आम नहीं होते हैं सब

दोष लगाना है बेहद आसान मगर
साबित तो इल्ज़ाम नहीं होते हैं सब

लाखों में से एक हुआ करते हैं वे
गाँधी जैसे नाम नहीं होते हैं सब