भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

करन्ड कस्तूरी भरिया छाबा भरिया फूलड़ा जी / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

करन्ड कस्तूरी भरिया, छाबा भरिया फूलड़ा जी।
तुम भेजो हो धणियेर रनुबाई, जो हम करसां आरती जी
थारी आरतड़ी ख आदर दीसाँ,
देव दामोदर भेंटसा जी।।
करन्डी कस्तूरी भरिया, छाबा भरिया फूलड़ा जी।।