भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

करमा गीत-4 / छत्तीसगढ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हाय रे हाय
मैं तो नहिं जानों जी
कहां बोहावे जाम झरिया
धर से निकरे फरिका मेर ढाढ़े
कहां बोहावे जाम झरिया।
डोंगरी च डोंगरी तै चड़ि जाबे।
नीचे बोहावे जाम झरिया
एक कोस रेंगे।
दुसर कोस रेंगे
तीसरे मा पहुँचे
जाम झरिया
हाथे मा गगरी
मूढ़े मा गुढ़री
खड़े देखय
जाम झरिया।