भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

करुणा भरी पुकार सुन / भजन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

करुणा भरी पुकार सुन अब तो पधारो मोहना

कृष्ण तुम्हारे द्वार पर आया हूँ मैं अति दीन हूँ
करुणा भरी निगाह से अब तो पधारो मोहना

कानन कुण्डल शीश मुकुट गले बैजंती माल हो
सांवरी सूरत मोहिनी अब तो दिखा दो मोहना

पापी हूँ अभागी हूँ दरस का भिखारी हूँ
भवसागर से पार कर अब तो उबारो मोहना