भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

करूं कढ़ाई गुलगुला सेढल माता धोकन जाय / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

करूं कढ़ाई गुलगुला सेढल माता धोकन जाय।
इब म्हारी सेढल माता राज्जी होय।
दादी दायला फूल्या नहीं समाय।