भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

करोड़पति / तोताराम ढौंडियाल 'जिग्यांसु'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नैतिकतौ झन्डा फैरान्दा फैरान्दा;
जिन्दगिकि रुम्कां तक् बि;
एक नेतण तक नि जोड़ि पायो नैतिक-
स्यो आकन्ठ कर्जम् डूबिक् मोर्गे!
अर् ब्यालौ समाज-सेवक;
आज; करोड़पति ह्वैगे!!