भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

करौं विनती सुनौ भैया समय पै भात लै अइयौ / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

करौं विनती सुनौ भैया समय पै भात लै अइयौ।
सास कों बीरन मोरे लाँगा लुगरों
ससुर कों पाग पिछौरा लै अइयौ।
करौं विनती ...
जिठनी कों बीरन मोरे चुनरी औ चोली
सो जेठा कों कुरता लै अइयौ।
करौं विनती ...
हम कों बीरन मोरे हार औ कंगना
सो बहनोई को धोती कुरता लै अइयौ।
जो मोरे बीरन तुमें इतनो नै पूजै
तौ रीते हाथ चले अइयौ।
करौं विनती ...