भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कर चुके हम फ़ैसला अब कुछ भी हो / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कर चुके हम फ़ैसला अब कुछ भी हो
इश्क़ में इस दिल का यारब कुछ भी हो

चारा साज़ों को नहीं कोई ग़रज़
दर्द बीमारों को मतलब कुछ भी हो

हारने का ख़ौफ़ दिल में किस लिए
आ गये मैदान में अब कुछ भी हो

बोल मत कुछ भी समन्दर के ख़िलाफ़
देख कर सूखे हूए लब कुछ भी हो

कब तलक ओढ़े रहेंगे बे हिसी
चुप रहेंगे कब तलक सब कुछ भी हो