भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कर रहा हूँ अभी सफ़र तन्हा / गोविन्द राकेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कर रहा हूँ अभी सफ़र तन्हा
मिल गयी है मुझे डगर तन्हा

ख़्वाब में मैं उतर गया उनके
क्यों रहे मुंतज़िर नज़र तन्हा

वो मिलें तो गले लगा लूँ मैं
हो न पाता कभी ग़ुज़र तन्हा

घर यहीं अब बसा लिया जाये
दिख रहा इक यहाँ शजर तन्हा

यूँ तो राकेश भी निसार उस पर
बोल भी दे मिले अगर तन्हा