भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कलम में खून / बाल गंगाधर 'बागी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं लिखता हूँ तो कई बार रोता हूँ
जब भी अछूत जिन्दगी को जीता हूँ
दिमाग की नसों में घायल खून दौड़ता है
जिसे अपने बाग़ी जख्मों से सींचता हूँ।
नफरतों की आग में मेरे लोग जलते रहे
अब जाति की जड़ी वो जंजीरें उखाड़ता हूँ
शोले से जलते पिंजड़ों में कैद रहकर
मैं सदियों से तड़पता समाज देखता हूँ
स्याही ही जगह आंसू जब कलम में भरता हूँ
बग़ावत की कलम से इतिहास को लिखता हूँ