भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कला और बूढ़ा चांद / रमेश कौशिक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओ लिलिपुटियो
तुम्हारी नियति यहाँ कहाँ

नील हरी रत्नाच्छाय घाटियों में
रुपहला प्रकाश बरस रहा है
इन्द्रधनुषी फूलों से पराग झर रहा है
मुक्ताभ छाया पथ में
अप्सराएँ नाच रही हैं
चैतन्य की गहराइयों में
आनन्द कूद रहा है

तुम अपने कर्दम में फँसे
बूढ़े चाँद की कलाओं को निहारो
आज वह बोध के
सर्वोच्च शिखर से बोल रहा है