भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कल आना है फिर संडे / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छ:दिन बीते किसी तरह से, कल आना है फिर संडे|
खेल खेल के नये तरीके, नूतन सीखेंगे फंडे|

सुबह देर तक सोऊंगा मैं,कोई मुझे जगाना मत|
उठ जाने के बाद कहीं भी,घर का काम कराना मत|
और नाश्ते में खाऊंगा,गरम गरम आलू बंडे|

मित्रों के संग चेयर रेस हम‌, मज़े मज़े से खेलेंगे|
पीकर दूध किलो भर मीठा, खूब दंड हम पेलेगें|
और शाम को खायेंगे फिर, उबले हुये पांच अंडे|

देर शाम को देखूँगा मैं, अच्छी सी पिक्चर जाकर|
भोज करुंगा बढ़िया बढ़िया, अच्छे होटल में जाकर|
देर रात जो सोऊँगा तो, आ जायेगा फिर मंडे|