भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कल रात का चाँद / विजय कुमार पंत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
कल चाँद को देखा
आंगन में
उतरा था पीली चादर में
कुछ बादल काले
साथ लिए
कुछ तारे लिपटे थे
तन से
कुछ रौनक लेकर
मंद मंद
जैसे शीतल
मुस्कान लिए
कुछ धुंध अँधेरे में उसने
बाले थे कितने दीप नए
कुछ धीमे -धीमे
धुंवा -धुवां
उडाता था यौवन रातों को
कुछ गर्म हवा
छूं जाती थी
कुछ बातें करते
हाथों को
पीला प्रकाश
नीला प्रकाश
उजाला प्रकाश
गीला प्रकाश
ऐसे फैला मेरे उपर
मैं जलता रहा
अनल होकर