भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कल वस्ल में भी नींद न आई तमाम शब / 'ममनून' निज़ामुद्दीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कल वस्ल में भी नींद न आई तमाम शब
एक एक बात पर थी लड़ाई तमाम शब

ये भी है ज़ुल्म तो कि उसे वस्ल में रहा
ज़िक्र-ए-तुलू-ए-सुब्ह-ए-जुदाई तमाम शब

किस बे-अदब को अर्ज़-ए-हवस हर निगह में थी
आँख उस ने बज़्म में न उठाई तमाम शब

याँ इल्तिमास-ए-शौक़ वहाँ ऐहतिराज़-ए-नाज़
मुश्किल हुई थी ओहदा-बराई तमाम शब

क्या सर पे कोह-कन के हुई बे-सुतूँ से आज
‘ममनूँ’ सदा-ए-तीशा न आई तमाम शब