भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कवन चढ़ली गाछी, भरि देह लगलैन माछी / अंगिका लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

विवाह के समय आम-महुआ ब्याहने की प्रथा है। आम और महुए के पेड़ों को धागे से लपेटा जाता है। इस विधि को संपन्न करते समय स्त्रियाँ विभिन्न स्त्रियों का नाम ले-लेकर गाली देती हैं।

कवन चढ़ली गाछी, भरि देह लगलैन माछी।
छोड़ छोड़ रे माछी, अब नै चढ़बौ गाछी॥1॥
कवन ठोकथि चिपरी[1], भरि देह लगलैन पिपरी[2]
छोड़ छोड़ रे पिपरी, आब नै ठोकबौ चिपरी॥2॥
कवन रान्हथिन[3] खिरनी[4], भरि देह लगलैन बिरनी[5]
छोड़ छोड़ रे बिरनी, आब नै रान्हबौ खिरनी॥3॥

शब्दार्थ
  1. गोबर के पाथे हुए चिपटे टुकड़े; उपली
  2. लाल रंग का चीटा, जो पेड़ पर रहता है
  3. पका
  4. खीर
  5. बर्रे; तितैया नामक कीड़ा