भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कविता- अकिंचन / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


होता है जब-जब
भावों का मर्दन
होता है तब-तब
कविता का नर्तन।
तेरे अपने होंगे सच
कविता- अकिंचन
बैठी हुई देहरी पर
खटकाती आतुर मन
उसके अपने ही सच
और अपने ही क्रन्दन
तभी होते है संतुष्ट
उपहारों में सूनेपन
बजती रही साँकल
भाया न अभिरंजन
बोलती रही वह सच
झुठला दी गई सजन...