भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कविता: तीन (मुझमें जागी है नयी आशा...) / अनिता भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझमें जागी है नयी आशा
मन चहक रहा है
उड़ने को बेताब
नए पंख मिले हैं मुझे
छोटा-सा घरौंदा क्यों सारी दुनिया मेरी है
आंखों में भर लूं आसमान
दौड़ जाऊं इठला कर बादलों पर
कि सारी दुनिया मेरी है
मन की कलियां सतरंगी सपने बुन रही हैं
सूरज की गमक आंखों में भर रही है
भिक्षुणी-सा उन्मुक्त ज्ञान
चारों ओर से बटोर लाऊं
अंधेरे बुझे कोनों में सौ-सौ दीप रख आऊं...!