भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कविता एक बनाएँ / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आओ, हम भी प्यारी-प्यारी
कविता एक बनाएँ।
जोडें़ तुक, शब्दों की माला
संुदर एक सजाएँ।

जिसमें अपना दुख-सुख
और कहानी बस अपनी हो।
कविता कैसी भी हो लेकिन
बानी बस अपनी हो।

सहज, सरल हो, नहीं चाहिए
भारी-भरकम मोटी।
हम छोटे-छोटे बच्चों की
कविता भी हो छोटी।

जिसे सीखना पड़े किसी से
क्या वह भी कविता है?
जिसे स्वयं आ जाए गाना
वह अच्छी कविता है।