भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कविता कोश का एक वर्ष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
अपनी शुभकामनाएँ अथवा अन्य संदेश
लिखने के लिये
यहाँ क्लिक कीजिये
Ck48374.gif
कविता कोश के बारे में
पाठकों और रचनाकारों
के विचार पढ़िये

कविता कोश की पहली वर्षगांठ
जुलाई 05, 2007

जुलाई 05, 2006 को अंतरजाल पर स्थापित हिन्दी काव्य के खुले संग्रह कविता कोश की स्थापना को आज एक वर्ष पूरा हो गया है। इस एक वर्ष के दौरान कविता कोश का विकास तीव्र गति से हुआ और इसे काव्य-प्रेमियों और रचनाकारों का एक-सा स्नेह और सहयोग प्राप्त हुआ। इस पन्ने पर कविता कोश के इस एक वर्ष से सम्बंधित कुछ जानकारी आपके लिये रखी जा रही है।


कुछ आँकडे

  • इस एक वर्ष में कविता कोश विकि में 3,000 से अधिक पन्ने बने हैं और इनमें 200 के करीब रचनाकारों की 2,500 से अधिक भिन्न रचनाएँ संकलित की गयी हैं।


  • वर्तमान में प्रत्येक माह कविता कोश में रचनाएँ पढ़ने के लिये 5,000 से अधिक आगंतुक आते हैं। इन आगंतुकों द्वारा प्रत्येक माह कविता कोश के 70,000 के लगभग पृष्ठ देखे जाते हैं


  • चालीस से अधिक विभिन्न लोगों ने कविता कोश में थोड़ा या अधिक योगदान दिया है और यह संख्या संतोषजनक गति से बढ़ रही है।


  • इस एक वर्ष में 6 व्यक्तियों को कोश के विकास में या हिन्दी काव्य के अंतरजाल पर विकास हेतु विशेष प्रयत्न करने के लिये कविता कोश सम्मान दिया गया।


कुछ लोग

कविता कोश के विकास में कुछ लोगों का योगदान बहुत प्रशंसनीय रहा है। पूर्णिमा वर्मन जी कविता कोश टीम की आरम्भ से ही सदस्य रही हैं। पूर्णिमा जी और घनश्याम चन्द्र गुप्त जी ने कोश के आरम्भिक दिनों में इसमें योगदान कर इसके अंकुर को एक स्वस्थ पौधे का रूप देने में सहायता की। घनश्याम चन्द्र गुप्त जी ने वर्तनी-सुधार का कार्य बहुत लगन से किया और कोश की गुणवत्ता को बढ़ाने में मदद की। डा. जगदीश व्योम और जयप्रकाश मानस जी भी लम्बे समय से टीम के सदस्य रहे हैं। जहाँ डा. व्योम के तीव्र योगदान ने कोश के विकास को गति प्रदान की, वहीं मानस जी ने कोश के बारे में सूचना प्रसार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। राजेश चेतन जी ने "नई घटनायें" सैक्शन में काफ़ी काम किया। हाल में अनिल जनविजय जी कविता कोश टीम के सदस्य बने और थोडे़ ही समय में इन्होनें योगदान के आकँडों में लगभग बाकी सभी को पीछे छोड़ दिया है। वर्तमान में अनिल जी के साथ कोश के विकास में अमित कुलश्रेष्ठ, हेमेन्द्र कुमार राय जी, तुषार जी, डा. भावना कुँवर, रामेश्वर काम्बोज जी और डा. रमा द्विवेदी इत्यादि विशेष भूमिका निभा रहे हैं।


कुछ चित्र इतिहास के

कविता कोश का मुखपृष्ठ कोश के विकास के साथ-साथ विकसित हुआ है। नीचे मुखपृष्ठ के पिछले एक वर्ष में विभिन्न समय पर लिये गये चित्र इस विकास को दर्शाते हैं। चित्रों की गुणवत्ता डाउनलोड समय को कम रखने के लिये कम रखी गयी है:

Jul 06 2006 1.jpg
जुलाई ०६, २००६ : कविता कोश मुखपृष्ठ

July 31 2006 1.jpg
जुलाई ३१, २००६ : कविता कोश मुखपृष्ठ

Aug 25 2006 1.jpg
अगस्त २५, २००६ : कविता कोश मुखपृष्ठ

Oct 31 2006 1.jpg
अक्तूबर ३१, २००६ : कविता कोश मुखपृष्ठ

Dec 26 2006 1.jpg
दिसम्बर २६, २००६ : कविता कोश मुखपृष्ठ

Apr 07 2007 1.jpg
अप्रैल ०७, २००७ : कविता कोश मुखपृष्ठ

कुछ भावी क़दम

कविता कोश में समय के साथ-साथ नई रचनाएँ तो जुड़ ही रही हैं -इसके अलावा हिन्दी काव्य को और समग्र-रूप से कोश में स्थापित करने के प्रयास भी निरंतर किये जा रहे हैं। हाल में कविता-संग्रहों के पन्नें बनाने की शुरुआत होने से शोधार्थियों के लिये काफ़ी सुविधा होने का आशा है। इसके अलावा अन्य भाषाओं से हिन्दी में अनूदित रचनाओं को भी कोश में शामिल करने के प्रयास आरम्भ किये जा चुके हैं। रचनाकारों के विस्तृत जीवन परिचय भी कोश में धीरे-धीरे जोड़े जा रहे हैं। और भी बहुत सी संभावनाएँ है जिन पर इस समय विचार जारी है।


इन सभी योजनाओं को आप सभी के सहयोग के बिना अमली-जामा नहीं पहनाया जा सकता। इस कोश का अस्तित्व हिन्दी-प्रेमियों के द्वारा स्वयंसेवा करते हुए योगदान देने के कारण ही बना है। इसलिये हमेशा की तरह कविता कोश आपका अमूल्य सहयोग सहयोग चाहता है। कविता कोश से सम्बंधित किसी भी प्रश्न या सुझाव के लिये आप कविता कोश टीम से सम्पर्क कर सकते हैं।


आशा है कि कविता कोश का यह स्वप्न यूँ ही निखरता रहेगा और दिन-प्रतिदिन हम इसके नये-नये आयामों को देख पाएँगे।


शुभकामनाओं सहित

--कविता कोश टीम--